भारतीय नौसेना की 24 वर्षीय पहली महिला पायलट बनी शिवांगी

शिवांगी को भारतीय नौसेना अकादमी, एहज़ला में 27 एनओसी कोर्स के रूप में एसएससी (पायलट) के रूप में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था। बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के पारू की शिवांगी भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट बनी हैं। सोमवार को पासिंग आउट परेड के बाद सब लेफ्टिनेंट शिवांगी ने नौसेना ज्वाइन किया। उन्होंने कोच्चि नेवल बेस में ऑपरेशनल ड्यूटी ज्वाइन की।वह आज से फिक्स्ड विंग सर्विलांस डोर्नियर विमानों को उड़ाएंगी।

शिवांगी को पिछले साल जून में भारतीय नौसेना में कमीशन दिया गया था। उन्होंने वायु सेना अकादमी (AFA) डंडीगल में छह महीने तक कठोर प्रशिक्षण लिया, जहां उन्हें भारतीय वायु सेना (IAF) के पिलाटस पीसी -7 विमान का प्रशिक्षण दिया गया। युवा अधिकारी बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में पाली बढ़ी।

वह वहां डीएवी पब्लिक स्कूल गई |और बाद में आकाश को छूने का सपना, वह कहती है, जिस दिन एक युवा लड़की के रूप में, उसने अपने घर के पास एक हेलिकॉप्टर को देखती थी | जिस क्षण इसमें पायलट को देखा, मुझे पता था कि मैं भी यही बनना चाहती हूं।” शिवांगी का उड़ान प्रशिक्षण तीन चरणों में हुआ था |

बेटी की इस कामयाबी पर माता-पिता फूले नहीं समा रहें। पिता हरिभूषण सिंह के अनुसार यह मेरे लिए बहुत गर्व की बात है। मैं टीचर हूं। शिवांगी ने एक साधारण परिवार से होने पर भी उसने बड़ी ऊंचाई पाई है। शिवांगी बचपन से ही किसी भी काम को चुनौती के रूप में लेती है।

पिता के अनुसार शिवांगी बीटेक कर रही थी। तभी नेवी के अधिकारी उसके कॉलेज गए थे। वह नेवी से इतना प्रभावित हुई कि इस क्षेत्र में जाने का फैसला कर लिया। शिवांगी की मां के अनुसार सेना में जाने के लिए बेटियों को आगे आना चाहिए। मैंने बेटी को कभी कमजोर नहीं समझा। बेटी के हर फैसले का सपोर्ट किया

मां प्रियंका के अनुसार मैंने कभी बेटी को उसके सपने पूरा करने से नहीं रोका। मैं हर समय उसकी सपोर्ट के लिए मौजूद रही। मैं कहती थी कि तुम्हें जो अच्छा लगता है करो। हम लोगों ने उसे कभी पीछे हटने नहीं दिया। मेरी दो बेटी और एक बेटा है। शिवांगी सबसे बड़ी है। उसकी सफलता देख अब भाई बहन भी देश के लिए कुछ करना चाहते हैं। शिवांगी की सफलता से परिवार में जश्न सा माहौल है। आखिर कार शिवांगी ने अपनी मंजिल पा ही ली ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *