सोने के वर्क वाले बीस हज़ार पान से स्वागत किया जाता था अतिथियों का, होल्कर की होली मे

राजवाड़े में खेली जाने वाली होली बहुत प्रसिद्ध रही है ,जिसमें निमंत्रण पाने के लिये बड़े – बड़े लोग तरसते थे।  राजा मल्हारराव होलकर ऐसे भी रहे हैं जिन्होंने मैसूर से १७ टन चंदन की लकड़ी मंगवा कर उसकी होली जलाई थी| लगभग पौने तीन सौ साल पहले इंदौर शहर में होलकरों ने होलिका दहन […]

Continue Reading

महिलाएँ जो बन गईं मिसाल सब के लिए

इंटरनेशनल वूमेन डे यानी महिला शक्ति का दिन, महिलाओ के सम्मान का दिन। वो महिलाएं जो छाप छोड़ देती हैं, समाज के लिए उद्हारण बन जाती हैं। उनके होसलें  और हिम्मत सब के प्रेरणा बन जाते हैं। धागा ही समझ तू अपनी मन्नत का मुझे, तेरी दुआओं के मुकम्मल होने का दस्तूर हूँ मैं। – […]

Continue Reading

मजदूरों के हक़ के लिए हमेशा खड़ी रहने वाली पेरिन, अब उन्हे अकेला छोड़ गई|

पेरिन दाजी की पहचान होमी दाजी की पत्नी के रूप मे भी की जाती हैं ,पेरिन दाजी और होमी छह दशकों तक एक साथ रहे और एक भी लड़ाई नहीं हुई थी दोनों मे   ! बहुत ही अद्भुत साथ था दोनों का आज मोहब्बत के महीने मे पेरिन भी चल बसी अपने साथी होमी […]

Continue Reading

धीरे धीरे दम तोड़ रहा लालबाग़

जर्जर और बदहाल होता लाल बाग़ इंदौर । लाल बाग़ यानी सुन्दर, आकर्षक महल जिसे इंदौर शान भी कह सकते हैं. मध्य प्रदेश शासन की लगातार उपेक्षा के चलते लाल बाग़ बदहाल और जर्जर होता जा रहा है. 71 .63 में फैले इस महल परिसर और महल अपने सुनहरे इतिहास पर आंसू बहा रहा है.शासन के […]

Continue Reading