जब तक सोच से बीमार नहीं होंगे तब तक शारीरिक तौर से बीमार नहीं होंगे परवीन अर्शी

RJS की सकारात्मक सोच का मिशन | आरजेएस की लघु बैठक में चित्रकूट के आरजेएस चंद्र प्रकाश द्विवेदी का अभिनंदन और योग पर चर्चा की गयी . आरजेएस की बैठक में पहली बार अतिथि वरिष्ठ पत्रकार प्रदीप महाजन,आर के शुक्ला ,संजय माहि ,ब्रह्मदत्तऔर महिला पत्रकार परवीन अर्शी शामिल रहीं। इसके अलावा उदय मन्ना के साथ साथ आरजेएस पाॅजिटिव मीडिया फैमिली ने भी शिरकत की| RJS की एक पहल सकारात्मक सोच की, इंसान अगर अपनी सोच को बदल ले तो सब कुछ अच्छा हो सकता हैं | हमारी सोच ही हमे पॉजिटिव या नेगेटिव बनाती हैं |

गिलास आधा भरा या आधा खाली हैं| ये सोच पर ही निर्भर करता हैं की व्यक्ति क्या सोचता हैं ,हमारी सोच मे बहुत ताकत हैं सकारात्मक सोच ही हमे अपनी मंज़िल तक ले जाती हैं |उदय मन्ना की एक कोशिश कई लोगो को नेगेटिव से पॉजिटिव की तरफ ले जा रही हैं |नाम भले ही राम जानकी संस्था हैं लेकिन अल्लाह के बंदे भी जुड़े हैं राम के इस सकारात्मक मिशन से, योग पर आधारित बैठक मे यही बताया गया हैं ,की किस तरह हम योग से रोग भगा सकते हैं |

सही भोजन और नींद हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ज़रूरी हैं इस से स्वतही के बिमारिया दूर हो जाती हैं | श्री भाटिया का कहना था कि रात 9:00 बजे से रात 3:00 बजे तक नींद के लिए अच्छा समय होता है। “हर बीमारी का इलाज होता है, क्योंकि मैंने खुद कई बार बीमार हो के देखा है | योग गुरु कवि प्रेम भाटिया ने अपनी कविता की कुछ पंक्तियों के साथ कहा की “खुद का ख्याल रखते हुए और का ख्याल रख सको तो अच्छा है, पर अपना ख्याल तो अपना ख्याल होता है।योग की बारिकियों को भी समझाया और सिखाया |कार्यक्रम मे मौजूद सभी लोगो ने उनके ज्ञान से खुद को सराबोर पाया |परवीन अर्शी ने बताया की जब तक हम सोच से बीमार नहीं होंगे, तब तक शारीरिक तौर से बीमार नहीं होंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

HTML Snippets Powered By : XYZScripts.com