क्या दुनिया में मौजूद है हिममानव

National

भारतीय सेना ने ‘येति’  के रहस्यमय पैरों के निशान को देखा है. येति एक वानर जैसा प्राणी है, जो औसत मानव से बहुत अधिक लंबा और बड़ा है. यह मोटे फर में ढका हुआ होता है.क्या है येति ? येति एक वानर जैसा प्राणी है, जो औसत मानव से बहुत अधिक लंबा और बड़ा है. यह मोटे फर में ढका हुआ होता है  ये अधिकतर बरफीली जगह पर रहते हैं. जहां इंसान का पहुचना मुश्किल होता है. माना जाता है कि यह अपने बचाव के लिए ये हाथ में पत्थर का औजार रखते हैं और इनकी आवाज भी बड़ी अजीब रहती है.

माना जाता है कि यह हिमालय, साइबेरिया, मध्य और पूर्वी एशिया में रहता है. इस प्राणी को आमतौर पर एक किंवदंती के रूप में माना जाता है क्योंकि इसके अस्तित्व का कोई ठोस सबूत नहीं है. येति को लोग घिनौना स्नोमैन भी कहा जाता है.

भारतीय सेना ने दावा किया है कि एक अभियान दल ने हिमालय के मकालू बेस कैंप  के पास मायावी हिममानव ‘येति’  के रहस्यमय पैरों के निशान  को देखा है. भारतीय सेना ने देखे 32×15 इंच वाले रहस्यमयी पंजे! सेना के अतिरिक्त सूचना महानिदेशालय ने सोमवार को ट्वीट किया, “पहली बार, भारतीय सेना  के पर्वतारोहण अभियान दल ने मकालू बेस कैंप  के करीब हिममानव ‘येति’  के रहस्यमयी पैरों के निशान देखे हैं|

इसने कहा, “इस मायावी हिममानव   को इससे पहले सिर्फ मकालू-बरुन नेशनल पार्क  में देखा गया है.” मकालू-बरुन राष्ट्रीय उद्यान नेपाल  के लिंबुवान हिमालय क्षेत्र में स्थित है. यह दुनिया का एकमात्र संरक्षित क्षेत्र है जिसमें 26,000 फुट से अधिक उष्णकटिबंधीय वन के साथ-साथ बर्फ से ढकी चोटियां हैं|

इसे 1920 में हिमालय के पास नेपाल में सबसे पहले देखा गया था. कई लोगों ने येति की खोज करने की कोशिश की. लेकिन वो कामयाब नहीं हो सके. कई सालों से येति को देखे जाने की कहानी सुनी जा चुकी है. लेकिन इसकी कोई तस्वीर अभी तक सामने नहीं आई है. फुटप्रिंट्स और बालों से ही इसका अंदाजा लगाया गया है|

येति के कई नाम हिमाचल की तरफ रहने वाले लोग इस येति या मेह-तेह बुलाते हैं. तिब्बत में इसे ‘मिचे’ कहा जाता है. जिसका मतलब होता है ‘इंसानी भालु’. येति को मिगोई, बन मांची, मिरका और कांग आदमी भी कहा जाता है|

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *