अपने साए से चौंक जाते हैं,उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा, गुलज़ार

बड़ी हसरत है पूरा एक दिन इक बार मैं,अपने लिए रख लूं, तुम्हारे साथ पूरा एक दिन,बस खर्च करने की तमन्ना है !! अपने साए से चौंक जाते हैं,उम्र गुज़री है इस क़दर तन्हा जी हां अपने अहसासों को अपनी शायरी मे पिरो कर हमे अपने अहसासों तक ले जाने वाले गुलज़ार के अलावा कोई […]

Continue Reading